न्यूजीलैंड ने कोरोना का एक केस मिलने पर लागू किया लॉकडाउन, छह महीने बाद सामने आया पहला मामला

न्यूजीलैंड में कोरोनावायरस

न्यूजीलैंड (New Zealand) में छह महीने बाद कोरोनावायरस का पहला मामला सामने आया है. ऑकलैंड (Auckland) में एक व्यक्ति कोविड-19 (Covid-19) से संक्रमित पाया गया है

न्यूजीलैंड (New Zealand) की सरकार ने मंगलवार को बड़ा निर्णय लेते हुए कम से कम तीन दिनों के लिए पूरे देश में सख्त लॉकडाउन (Lockdown) लागू कर दिया. दरअसल, देश में छह महीने बाद लोगों के बीच पहली बार कोरोना का पहला मामला सामने आया है. प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न (Jacinda Ardern) ने महामारी को खत्म करने के लिए लोगों से मदद की अपील की है. अर्डर्न ने कहा कि हमें देखा है कि बाकी जगहों पर क्या हुआ है, अगर कोरोना से नहीं निपटा जाता है तो. हमारे पास सिर्फ एक चांस है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि संक्रमित व्यक्ति ऑकलैंड का रहने वाला है और उसने कोरोमंडेल का दौरा किया था. इन दोनों ही जगहों पर सात दिनों तक पूरी तरह से लॉकडाउन लागू होगा. वहीं, बाकी के देश में सिर्फ तीन दिनों तक लॉकडाउन लागू किया जाएगा. वहीं, स्वास्थ्य अधिकारी संक्रमण के सोर्स का पता लगाने में जुटे हुए हैं. दूसरी ओर, लॉकडाउन का ऐलान होते ही सुपरमार्केट के बाहर जरूरी चीजों को खऱीदने के लिए लोगों की लाइनें लग गई हैं.

आखिरी बार फरवरी में मिला था कोरोना केस

गौरतलब है कि न्यूजीलैंड (New Zealand) के सबसे बड़े शहर ऑकलैंड (Auckland) में एक व्यक्ति कोविड-19 (Covid-19) से संक्रमित पाया गया. इस तरह न्यूजीलैंड में लोगों के बीच छह महीने बाद कोविड-19 का पहला मामला सामने आया. देश के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि कोविड के मामले और सीमा या आइसोलेशन से इसके संबंध को लेकर अभी तक कुछ स्पष्ट नहीं है. ये व्यक्ति कैसे संक्रमित हुआ है, इसकी जांच की जा रही है. आखिरी बार न्यूजीलैंड में लोगों के बीच कोरोना का मामला फरवरी में सामने आया था.

ऑकलैंड की स्थानीय पब्लिक हेल्थ यूनिट संक्रमित व्यक्ति का इंटरव्यू ले रही है, ताकि उसके संपर्क में आए लोगों की पहचान की जा सके. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि ऑकलैंड में जो भी सार्वजनिक परिवहन का इस्तेमाल कर रहा है या फिर सार्वजनिक जगहों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं कर पा रहा है. उन्हें एहतियात के लिए मास्क लगाने की जरूरत है. इसने कहा कि इस मामले पर प्रतिक्रिया की पुष्टि के लिए अतिरिक्त जानकारी इकट्ठा होने के बाद मंत्रियों की आज दोपहर बैठक होगी.

न्यूजीलैंड में कोविड से सिर्फ 26 लोगों की हुई मौत

न्यूजीलैंड की कोरोनावायरस महामारी को लेकर अपनाए गए सख्त स्टैंड की वजह से इसने वायरस को स्थानीय तौर पर फैलने से रोक दिया है. यही वजह है कि देश के नागरिक बिना किसी प्रतिबंध के कहीं भी आ जा सकते हैं. हालांकि, अंतरराष्ट्रीय सीमाओं को बड़े स्तर पर बंद करके रखा गया है. अभी तक न्यूजीलैंड में करीब 2500 लोगों की कोरोना से (Coronavirus Cases in New Zealand) संक्रमित होने की पुष्टि हुई है और 26 लोगों की वायरस के संक्रमण के चलते मौत हुई है.

US आठ महीने में बूस्टर डोज लेने की करेगा सिफारिश

वहीं, अमेरिका में कोरोनावायरस के डेल्टा वेरिएंट के तेजी से फैलने के मद्देनजर इस संक्रमण से लंबे समय तक बचाव सुनिश्चित करने के लिए अमेरिकी विशेषज्ञ सभी अमेरिकियों को कोविड-19 वैक्सीन की दूसरी डोज लेने के आठ महीने बाद बूस्टर डोज देने की सिफारिश कर सकते हैं. संघीय स्वास्थ्य अधिकारी इस बात पर सक्रियता से विचार कर रहे हैं कि क्या इन सर्दियों में लोगों को अतिरिक्त डोज दिए जाने की आवश्यकता होगी या नहीं.

वे अमेरिका में संक्रमितों की संख्या और इजराइल जैसे अन्य देशों में हालात पर नजर रख रहे हैं, जहां शुरुआती अध्ययन में संकेत मिला है कि जनवरी में वैक्सीनेशन करा चुके लोगों में गंभीर संक्रमण के खिलाफ वैक्सीन की बचाव क्षमता में कमी आई है. इस मामले की जानकारी रखने वाले दो अधिकारियों ने अपनी पहचान गोपनीय रखने की शर्त पर ‘द एसोसिएटेड प्रेस’ को बताया कि अमेरिका में बूस्टर संबंधी सिफारिश को लेकर इस सप्ताह घोषणा किए जाने की संभावना है.

CG FIRST NEWS
Author: CG FIRST NEWS

CG FIRST NEWS

Leave a Comment

READ MORE

विज्ञापन
Voting Poll
3
Default choosing

Did you like our plugin?

READ MORE

error: Content is protected !!