FCI ने विकसित की अत्याधुनिक प्रयोगशाला, चार और लैब खोलने की योजना, खाद्यान्न के नमूनों की होगी जांच

उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने शनिवार को हरियाणा में सरकारी स्वामित्व वाली भारतीय खाद्य निगम (FCI) द्वारा स्थापित एक रासायनिक प्रयोगशाला का उद्घाटन किया, जिसमें लगभग पांच करोड़ रुपए का निवेश किया गया है. चौबे ने कहा कि देश भर में ऐसी चार और प्रयोगशालाएं स्थापित की जाएंगी. एफसीआई ने खाद्य सुरक्षा संस्थान (एक आंतरिक प्रशिक्षण केंद्र) में खाद्यान्न नमूनों के आंतरिक परीक्षण के लिए अपनी पहली अत्याधुनिक प्रयोगशाला विकसित की है.

कार्यक्रम के दौरान, मंत्री ने चावल के पोषण तत्वों से संवर्धित स्वरूप के बारे में लघु फिल्मों, रेडियो जिंगल और सोशल मीडिया सामग्रियों का भी शुभारंभ किया. फोर्टीफिकेशन का अर्थ है भोजन में आवश्यक सूक्ष्म पोषक तत्वों की मात्रा को उसकी गुणवत्ता में सुधार के लिए बढ़ाना

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए चौबे ने कहा कि सरकार ने देश की खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित की है और अब पोषण सुरक्षा प्रदान करने के प्रयास कर रही है. उन्होंने कहा कि एफसीआई ने इस संस्थान में यह आधुनिक रासायनिक प्रयोगशाला स्थापित की है और क्षेत्रीय स्तर पर चार और प्रयोगशालाएं खोली जाएंगी. उन्होंने कोविड महामारी के दौरान चुनौतीपूर्ण कार्य को करने में शामिल एफसीआई और अन्य राज्य एजेंसियों की सराहना की.

फोर्टीफाइड चावल में मिलाए जा रहे विटामिन

चावल के ‘फोर्टीफिकेशन’ के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने देश के 75वें स्वतंत्रता दिवस पर अपने भाषण में घोषणा की थी कि साल 2024 तक हर सरकारी कार्यक्रम के तहत फोर्टिफाइड चावल उपलब्ध कराया जाएगा. चौबे ने कहा कि सरकार इस कार्यक्रम को तीन चरणों में लागू कर रही है और खाद्य कानून और मध्याह्न भोजन सहित सभी केंद्रीय कल्याण योजनाओं के तहत वर्ष 2023 तक प्रधानमंत्री द्वारा निर्धारित लक्ष्य तक पहुंचने के लिए प्रयास कर रही है.

उन्होंने कहा कि सरकार फोर्टीफाइड चावल को बाजारों में उपलब्ध कराने की भी योजना बना रही है. चावल की फोर्टिफिकेशन प्रक्रिया में ‘आयरन’, ‘फोलिक एसिड’ और ‘विटामिन बी-12’ मिलाया जा रहा है.

एफसीआई के सीएमडी आतिश चंद्र ने कहा कि कंपनी के पास अपने विभिन्न गोदामों में प्रयोगशालाएं हैं ताकि नमी जैसे खाद्यान्नों के भौतिक गुणों की जांच की जा सके. उन्होंने कहा, ‘रासायनिक मानकों पर परीक्षण के लिए यह पहली प्रयोगशाला है. इसे 4.8 करोड़ रुपये की लागत से स्थापित किया गया है.’ उन्होंने कहा कि चार और रासायनिक प्रयोगशालाएं स्थापित की जाएंगी.

CG FIRST NEWS
Author: CG FIRST NEWS

CG FIRST NEWS

Leave a Comment

READ MORE

विज्ञापन
Voting Poll
3
Default choosing

Did you like our plugin?

READ MORE

error: Content is protected !!