Ganesh Chaturthi 2021 : गणपति बप्पा के पूजन के समय जरूर करें ये मंगलकारी आरती

कहा जाता है कि गणपति शुभ फलदाता हैं. जब वे घर में विराजते हैं तो वहां के सारे संकट और दुखों को हर लेते हैं. इसलिए यदि आप गणपति को घर में ​लाने की तैयारी कर रहे हैं तो उनकी पूरे मन से सेवा करें क्योंकि भगवान सिर्फ आपकी सच्ची भावना को देखते हैं.

आज शुक्रवार 10 सितंबर को भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी है. इस चतुर्थी को गणेश चतुर्थी के नाम से जाना जाता है. मान्यता है कि आज के ही दिन गणेश भगवान ने दोपहर के समय जन्म लिया था. उनके जन्मोत्सव के उपलक्ष्य में भारत के तमाम हिस्सों में गणेश चतुर्थी से लेकर अनंत चौदस तक 10 दिनों का उत्सव मनाया जाता है. चतुर्थी के दिन ही बप्पा के भक्त गणपति की मूर्ति को धूमधाम से अपने घर पर लेकर आते हैं और 5, 7 या 9 दिनों तक मूर्ति को घर में रखकर उनकी सुबह शाम विशेष पूजा की जाती है.

गणपति को मेवा मिष्ठान आदि का भोग लगाया जाता है. कहा जाता है कि गणपति दुख हरने वाले हैं और सुख प्रदान करने वाले हैं. ऐसे में जो भी व्यक्ति इस दौरान गणपति की आराधना सच्चे मन से करता है, उसे उनकी कृपा जरूर प्राप्त होती है और उसके दुखों का अंत हो जाता है. यदि आप भी आज गणेश जी को अपने घर लाने की तैयारी कर रहे हैं तो उनके पूजन के समय गणपति की ये मंगलकारी आरती जरूर करें. जानिए गणपति की स्थापना का समय और मंगल आरती .

स्थापना का शुभ समय

गणपति बप्पा की स्थापना और पूजा का शुभ समय 12 बजकर 17 मिनट पर शुरू होगा और रात 9 बजकर 57 मिनट तक रहेगा. चूंकि गणेश जी का जन्म दोपहर के समय हुआ था, इसलिए उनकी स्थापना और पूजन का अति शुभ समय दोपहर का ही माना जाता है. खास बात ये है कि इस बार चतुर्थी पर भद्रा का साया नहीं है. पूजन के दौरान रोली, साबुत अक्षत, पान, सुपारी और दूर्वा भगवान को जरूर अर्पित करें. साथ ही उनके प्रिय लड्डुओं या मोदक का भोग लगाएं.

ये है आरती

सुखकर्ता दुखहर्ता वार्ता विघ्नाची
नूरवी पुरवी प्रेमा कृपा जयची
सर्वांगी सुंदरा उति शेंदुराची
कंठि झलके माला मुक्ताफलनि

जय देव जय देवा जय मंगलमूर्ति
दर्शनमत्रे मनकामना पूर्ति

रत्नाचिता फरा तुजा गौरीकुमारा
चंदनची उति कुमकुमकेसरा
हिर जादिता मुकुता शोभतो बारा
रनहुँति नृप चरनि गहगारी

जय देव जय देवा जय मंगलमूर्ति
दर्शनमत्रे मनकामना पूर्ति

लम्बोदर पीताम्बरा फणीवर बंधना
सरला सोंडा वक्रतुण्ड त्रिनयन
दासा रामच वात पै साधना
संकटी पावे निर्वाणी रक्षे सुरवरवन्दना

जय देव जय देवा जय मंगलमूर्ति
दर्शनमत्रे मनकामना पूर्ति

(यहां दी गई जानकारियां धार्मिक आस्था और लोक मान्यताओं पर आधारित हैं, इसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है. इसे सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर यहां प्रस्तुत किया गया है.)

यह भी पढ़ें – Happy Ganesh Chaturthi 2021: इन संदेशों के जरिए अपने प्रियजनों को भेजें गणेश जन्मोत्सव के बधाई

CG FIRST NEWS
Author: CG FIRST NEWS

CG FIRST NEWS

Leave a Comment

READ MORE

विज्ञापन
Voting Poll
3
Default choosing

Did you like our plugin?

READ MORE

error: Content is protected !!